शिंदे के गढ़ ठाणे में उद्धव गुट करेगा सबसे बड़ा प्रोग्राम, एकनाथ गुट ने लगाई इनामों की झड़ी

महाराष्ट्र में कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर होने वाले दही हांडी पर भी अब सियासी कब्जे की लड़ाई शुरू हो गई है। उद्धव ठाकरे से सरकार छीनने के बाद अब शिंदे गुट दही हांडी के जरिए शक्ति प्रदर्शन करने जा रहा है। शुक्रवार को ठाणे और दादर में शिंदे गुट के विधायक बड़े स्तर पर दही हांडी प्रोग्राम का आयोजन करेगी।

दोनों गुट आमने-सामने
1. श्रीकांत शिंदे, शिंदे गुट- यह आयोजन बालासाहब ठाकरे और अनंत दीघे के सम्मान को दर्शा रही है।
2. राजन विचारे, उद्धव गुट- यह आयोजन निष्ठा, एकता, संस्कृति और हिंदुत्व की आवाज को दर्शाती है।

शिंदे गुट की क्या है तैयारी?
शिंदे गुट इस बार अनंत दीघे दही हांडी प्रोग्राम का आयोजन पूरे महाराष्ट्र में करने जा रही है। ठाणे में 300 से ज्यादा टीमें दही हांडी प्रोग्राम में भाग लेंगी। शिंदे के सांसद बेटे श्रीकांत शिंदे और विधायक प्रताप सरनाइक को ठाणे में दही हांडी प्रोग्रामX की कमान सौंपी गई है। यहां विजेता टीम को 2.5 लाख रुपए दिए जाएंगे।

Kashipur Satta King
Kurla Day Chart
Shri Ganesh Satta King
Sj Portal
Satta King Disawar
Kalyan Night Chart

उद्धव गुट की तैयारी क्या है?
उद्धव गुट की ओर से युवा सेना को मुंबई में शिवसेना भवन और गिरगांव में तो सांसद राजन विचारे को ठाणे में दही हांडी का आयोजन करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। यहां भी जीतने वाली टीम को 2.5 लाख रुपए दिए जाएंगे।

ठाणे में जगह-जगह पर उद्धव गुट की ओर से पोस्टर लगाए गए हैं। पोस्टर में आदित्य ठाकरे की तस्वीर सबसे बड़ी लगी है।

ठाणे में जगह-जगह पर उद्धव गुट की ओर से पोस्टर लगाए गए हैं। पोस्टर में आदित्य ठाकरे की तस्वीर सबसे बड़ी लगी है।

भाजपा-मनसे ने भी मैदान में कूदी
शिवसेना के अलावा भाजपा और मनसे भी दही हांडी आयोजन में कूद पड़ी है। भाजपा आदित्य ठाकरे के विधानसभा क्षेत्र वर्ली में सबसे बड़ा आयोजन करने जा रही है। इसकी कमान मुंबई अध्यक्ष आशीष शेलार को सौंपी गई है। वहीं राज ठाकरे की पार्टी ने जीतने वाले टीम को 55 लाख रुपए देने और स्पेन घुमाने का वादा किया है।

दही हांडी के 2 बड़े आयोजन के बारे जानिए

  1. शिंदे गुट के विधायक प्रताप सरनाइक की संस्कृति युवा प्रतिष्ठान ठाणे में दही हांडी का आयोजन करती है। 2012 में जय जवान गोविंदा मंडल ने यहां 43.79 फुट और 9 परत मानव पिरामिड बनाकर गिनीज वर्ल्ड ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज करवाया था।
  2. ठाणे के ही संघर्ष प्रतिष्ठान समिति दही हांडी का आयोजन करने वाली सबसे अमीर समिति मानी जाती है। यह समिति हर साल जीतने वाली टीम को 1 करोड़ रुपए और सोना इनाम के तौर पर देती है।

कार्यकर्ताओं को साधती रही है शिवसेना
शिवसेना दही हांडी के जरिए पहले अपने कार्यकर्ताओं को साधती रही है। शिवसेना संगठन में आयोजन करवाने के लिए अलग से मोर्चा बनाया जाता है। यह मोर्चा नीचे स्तर तक काम करता है। इसके जरिए उन असंतुष्ट नेताओं को भी साधने का काम होता था, जिन्हें मुख्य भूमिका नहीं दी जाती थी। शिवसेना मुख्य रूप से दादर, ठाणे और मुंबई में दही हांडी का आयोजन कराती रही है।

1966 में बालासाहब ठाकरे ने शिवसेना का गठन किया था। 2012 में उद्धव ने शिवसेना की कमान संभाली थी।

1966 में बालासाहब ठाकरे ने शिवसेना का गठन किया था। 2012 में उद्धव ने शिवसेना की कमान संभाली थी।

BMC चुनाव पर फोकस, उद्धव के लिए चुनौती
महाराष्ट्र सरकार ने दही हांडी कार्यक्रम में भाग लेने वाले गोविंदा को सरकारी नौकरी में छूट देने की घोषणा की है। साथ ही दुर्घटना में मरने वालों को 10 लाख और घायल होने वालों को 7 लाख रुपए मुआवजा देने का ऐलान किया है। माना जा रहा है कि शिंदे गुट का फोकस आने वाले मुंबई नगर पालिका चुनाव पर फोकस है। वर्तमान में उद्धव गुट की मुंबई महानगर पालिका में सरकार है।

शिवसेना का विवाद सुप्रीम कोर्ट में
20 जून से जारी शिवसेना का विवाद सुप्रीम कोर्ट में है। 22 अगस्त को कोर्ट में इस पर फैसला आने की संभावना है। शिंदे के नेतृत्व में 39 विधायकों ने उद्धव से अलग होकर भाजपा के सहयोग से सरकार बना ली थी।

Leave a Comment